Abhivyakti Me Aapki Pratikriya


1668 31.05.2011, at 05:54:33
Aapka Naam: sharda monga
Email: sharda.monga@gmail.com
Where are you from?: Auckland-NZ
Rachana Ka Shirshak: Savitri ka Vat Vruksh
Lekhak Ka Naam: पुष्पा तिवारी
Comments: Just beautiful


1667 28.05.2011, at 16:42:51
Aapka Naam: gun.gun
Email: arushi_2001&sifymail.com
Where are you from?: delhi
Rachana Ka Shirshak: aprkashit
Lekhak Ka Naam: gun.gun
Comments: namaskar.mai ak school tacher hu.main anke kavitao kerachana kee hai parantu unhe prakashit karvane ke niyam adee ka gyan nahi hai. kaveeta purne roop se achee avam sarr purn pathakoo ko prbhvit karne vale a prakashit hai/ kripa prakashit karvane ka liya sahi rah dikhiya.
dhanyawad.
gun.gun.


1666 28.05.2011, at 14:36:27
Aapka Naam: Tapasvi Karan
Email: tksingh210@yahoo.com
Where are you from?:
Rachana Ka Shirshak: khel
Lekhak Ka Naam: t.k.singh
Comments: aj ke yug me sabhi khelo ko bdava dene me media ki bhumaka bahut ha.



1665 26.05.2011, at 08:35:28
Aapka Naam: Manaw sahu
Email: Manaw.sahu@gmail.com
Where are you from?: Gram -kandel tal.+ dis. -Dhamtari {C. G.} india
Rachana Ka Shirshak: Ramlila
Lekhak Ka Naam: Munshi Premchand ji
Comments: Kahani mai aaj jo wartman pristhiti ka jiwant warnan kiya gaya hai.
Aaj ke samay mai jin wesyawo ko dine ke ujale mai ham ghirna ke najaro se dekhte hai rat ko ye safed pos log unhi ke pairo mai gire hote hai.
Aaj dharm se bda kamwasna ka mahatw bad gaya hai.
Aaj bharat mai agar koi sabre bada bissines koi hai to wah hai dharm ka.
Jaha par arbo rupya kamaya ja rahe hai. Shirf logo ki dharmik bhawnaye dhoda bharkane ki jarur bas hoti hai. Ttha dharmik kamo se prapt paise par tex bhi dena nahi padta hai.
Dabal munafa.......


1664 25.05.2011, at 17:29:31
Aapka Naam: deepak awasthi
Email: 01awasthideepak@in.com
Where are you from?: purnima
Rachana Ka Shirshak: lal kile per amar tiranga
Lekhak Ka Naam: k.
Comments: agar koe es geet per amal kare to hamare dhesh se gariby mit jay hamara desh unati ki taraf chalane lagega.jai hind


1663 24.05.2011, at 09:26:01
Aapka Naam: सुशील जैन
Email: scjmnp@gmail.com
Where are you from?: BAREILLY
Rachana Ka Shirshak: लिखे हुए शब्दों के प्रति श्रद्धा
Lekhak Ka Naam: प्रवीण गार्गव
Comments: उत्कृष्ट विचार हैं. पाठक के जीवन को हर प्रकार से सम्रद्ध करने की क्षमता रखते हैं.


साधुवाद!


1662 21.05.2011, at 11:55:28
Aapka Naam: vandana
Email: shuklavandana46@gmail.com
Where are you from?:
Rachana Ka Shirshak: vasant ke hatyare
Lekhak Ka Naam: hrishikesh sulabh
Comments: very good story....


1661 20.05.2011, at 16:05:09
Aapka Naam: surinder dhawan
Email:
Where are you from?: delhi
Rachana Ka Shirshak: rasoighar
Lekhak Ka Naam: madhugajadhar
Comments: kya arabi ki chat bani pure parivaar ki taraf se thank you


1660 19.05.2011, at 19:03:20
Aapka Naam: sakshi dixit
Email: sakshi.s.dixit@gmail.com
Where are you from?: ahmedabad
Rachana Ka Shirshak: bachapan
Lekhak Ka Naam: usha mahajan
Comments: aapke dwara bachcho ke manovigyan ko sahajta se prastut kiya gaya hai.mujhe kahani bahut achchhi lagi.aasha hai ki aapko phir se padhu.



1659 19.05.2011, at 16:14:59
Aapka Naam: AJAY
Email: VERMA
Where are you from?: SULTANPUR
Rachana Ka Shirshak: SILE HUE OTH
Lekhak Ka Naam: JAYNANDAN
Comments: I like this story very much..it's true that today every one is very helpless against system..No body have enough courage to say against the system/corruption.



1658 18.05.2011, at 13:44:54
Aapka Naam: AJAY KUMAR VERMA
Email: wanatalkwith.ajay@gmail.com
Where are you from?: Sultanpur
Rachana Ka Shirshak: Samarpan
Lekhak Ka Naam:
Comments: I like this story very much..
Thanks a lot for post such type of Story..



1657 17.05.2011, at 18:29:10
Aapka Naam: प्रेम सिल्ही
Email: psilhi@indiatimes.com
Where are you from?: न्यू यार्क, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
Rachana Ka Shirshak: बनियान
Lekhak Ka Naam: उमेश अग्निहोत्री
Comments: स्वयं पिता होते, मैं इस कहानी में दी सीख को भली भांति देख पा रहा हूँ| संक्षिप्त में, दो पीढ़ियों में समझोता होने पर ही परिवार में सुख व स्थिरता प्राप्त की जा सकती है| अग्निहोत्री जी को इस शिक्षाप्रद कहानी के लिए मेरा धन्यवाद|


1656 16.05.2011, at 18:38:08
Aapka Naam: Manoj Sharma
Email: manoj.hapur@yahoo.com
Where are you from?: Hapur, UP, India
Rachana Ka Shirshak: बनियान
Lekhak Ka Naam: उमेश अग्निहोत्री
Comments: लगता है लेखक ने मेरी ही कहानी लिख दी है. फरक यह है कि मेरे पापा को मेरे मूंछों और बालों के स्टाइल से problem है. परन्तु मैं कहानी के बच्चे की तरह इतना खुशकिस्मत नहीं हूँ. आज ३८ बरस का हो गया , २ बच्चों का बाप बन गया. शीत युद्ध अभी भी जारी है. मेरी मूछें और बाल नैसर्गिक है. यह बदले नहीं जायेंगे. बस पापा को पसंद नहीं......

मजेदार बात है, हर जगह मेरी तारीफ़ करते है, मेरे ऊपर गर्व भी है. पर मेरे से कभी आराम से बात नहीं कर सकते. बहुत अच्छी लगी यह कहानी.

कहानी पर चार लाईने याद आ रही हैं........

"चमन में सबने ही गया तराना जिंदगी का,
मगर सबसे अलग था रंग मेरी ही कहानी का,
तराना इस कदर रंगीन था मेरी जुबानी का
कि जिसने भी सुना कहने लगा मेरी ही कहानी है."






1655 13.05.2011, at 16:39:04
Aapka Naam: pradeep arya
Email: pradeep0204arya@gmail.com
Where are you from?: jaipur
Rachana Ka Shirshak: ramleela
Lekhak Ka Naam: munshi premchand
Comments: vichar to abhi mere apne nihi hai isliye bas shubhakaamnaye de sakta hu.......prayas aapke ho......saflataaye aapki ho .......bas duaaye hamari jarur hogi


1654 12.05.2011, at 03:48:23
Aapka Naam: Kumar Ravindra
Email: kumarravindra310@gmail.com
Where are you from?: Hisar, HARYANA
Rachana Ka Shirshak: Aakash se gira...
Lekhak Ka Naam: Kusum Khemani
Comments:
प्रिय बहन
कुसुम खेमानी,
'अभिव्यक्ति' के इसी सप्ताह के अंक में आपका मारीशस द्वीप पर यात्रा-आलेख आज ही पढ़ा| यथार्थ और काव्यात्मक कल्पना का अद्भुत संगम आपके अन्य आलेखों के समान ही इस आलेख में भी | साधुवाद ! मारीशस द्वीप की यात्रा के लिए लुभाता है यह यात्रावृत्त| साथ ही उस महावेदना से भी परिचित कराता है, जिसे झेलकर वहाँ के भारतवंशी आज के इस स्वर्ग की संरचना कर पाये| गाँधी के रामराज की परिकल्पना भी वहीँ साकार हो पाई है| धन्य है वह लघु भारत और उससे परिचित कराता आपका लेख ! मेरा हार्दिक अभिनन्दन एक बार फिर इस सारस्वत भेंट हेतु !
स्नेह-नमन स्वीकारें |
आपका
कुमार रवीन्द्र


1653 11.05.2011, at 21:38:03
Aapka Naam: अर्चना
Email:
Where are you from?: बैंगलोर
Rachana Ka Shirshak: करिश्मा ब्यूटी पार्लर
Lekhak Ka Naam: इंदिरा दाँगी
Comments: मन को छू लेने वाली कहानी....!!!!


1652 09.05.2011, at 22:33:42
Aapka Naam: प्रेम सिल्ही
Email: psilhi@indiatimes.com
Where are you from?: न्यू यार्क, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
Rachana Ka Shirshak: कार्टून-कोना: मई ९, २०११, दाऊद
Lekhak Ka Naam: कीर्तीश भट्ट
Comments: कार्टून देख मुझे एक बहुत पुराना चुटकुला याद हो आया| काफी हाउस में काफी का कप हाथ में थामे एक आदमी ने टेबल पर बैठते पांच कहा और वहां पहले से बैठा व्यक्ति और वह ठहाका लगा कर हंस दिए| ऐसे ही एक एक कर उनके कुछ और साथी वहां आते, कोई नंबर बोलते तथा काफी पीते सभी खिलखिला कर हंस देते| साथ के टेबल पर हैरान बैठे एक व्यक्ति के पूछने पर कि कोई नंबर बोलते वे क्यों हंस देते है, उन्होंने बताया कि वे सभी ट्रेवलिंग सेल्स मेन हैं और समय न होने के कारण वे चुटकुले को पहले से दिया गया नंबर बोल कर उसका पूरा आनंद उठाते हैं| इसी प्रकार कीर्तीश के कार्टून देख कर न कि समाचार पढ़ने की कोई आवश्यकता रह जाती बल्कि व्यंग में सामान्य जीवन का भोज हलका लगने लगता है|


1651 08.05.2011, at 18:15:34
Aapka Naam: प्रेम सिल्ही
Email: psilhi@indiatimes.com
Where are you from?: न्यू यार्क, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
Rachana Ka Shirshak: टोबा टेक सिंह
Lekhak Ka Naam: सआदत हसन मंटो
Comments: मैंने अन्यत्र यह कहानी कई बार पढ़ी है| बिशन सिंह जैसे कई पागल हैं जो आज भी देश विभाजन के पहले की यादों के टोबा टेक सिंह में जी रहे हैं|


1650 08.05.2011, at 16:20:59
Aapka Naam: प्रेम सिल्ही
Email: psilhi@indiatimes.com
Where are you from?: न्यू यार्क, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
Rachana Ka Shirshak: सोने की आरामकुर्सी
Lekhak Ka Naam: अभिज्ञात
Comments: मनोविज्ञानिक स्तर पर इस कथा का मूल्य तो मैं नहीं जानता लेकिन मेरे लिए तो इस कथा में साधारण जीवन की निराशावृत्ति, अपराधिता, पुलिस की बर्बरता और देश में जंगल राज देखने को मिलते हैं| सभ्य समाज में सुरेश अपनी खरीदी हुई लोहे की आरामकुर्सी के सोने की आरामकुर्सी में बदल जाने को मीडिया में बताने मात्र से ही मालामाल हो जाता| भारतीय समाज में पारम्परिक कथाओं द्वारा लोगों में सदैव सुचरित्र और नैतिकता के भाव उत्पन्न हुए हैं| लेकिन आज के समाज में लकडहारे की लोहे की कुल्हाड़ी की जगह उसकी भारी भरकम पत्नि ने ले ली है और इस युक्ति पर कि वह तीन पत्निओं का भार कैसे उठाएगा, समय पाते वह पहली बार में मिली छैल छबीली औरत को पा संतुष्ट हो जाना चाहता है|
तिस पर लेखक में शब्दों के जाल से कहानी बुनने की क्षमता की अवज्ञा नहीं होनी चाहिए| लेखक को मेरा सुझाव है कि कहानियों में नैतिकता होनी चाहिए ताकि धीरे धीरे समाज में अज्ञान को मिटाया जा सके|


1649 07.05.2011, at 19:41:14
Aapka Naam: julliat khan
Email: faazjunaidkhan@gmail.com
Where are you from?: moradabad up
Rachana Ka Shirshak: rasoighar ke swasth sujhav
Lekhak Ka Naam: alka mishra
Comments: ati uttam hain sujhav.


1648 06.05.2011, at 20:06:47
Aapka Naam: अनुराधा सिंह
Email: anuradhadei@yahoo.co.in
Where are you from?: बंगलोर
Rachana Ka Shirshak: कैक्टस
Lekhak Ka Naam:
Comments: मानव मन का बहुत सजीव चित्रण किया है.


1647 06.05.2011, at 10:51:57
Aapka Naam: अनुराधा सिंह
Email: anuradhadei@yahoo .co .in
Where are you from?: बैंगलोर
Rachana Ka Shirshak: ब्यूटी पार्लर
Lekhak Ka Naam: इंदिरा दाँगी
Comments: बहुत अच्छा इंदिरा जी. कहानी मर्मस्पर्शी है.



1646 06.05.2011, at 10:01:27
Aapka Naam: om narayan tiwari
Email: omi.nisha@gmail.com
Where are you from?: mainpuri u p
Rachana Ka Shirshak: maa
Lekhak Ka Naam: om narayan tiwari < omi >
Comments: Maa ek aisa shabd hai jismen sari duniya samai hai. 8 may ko sari duniya mothers day manata hai per uske baad apni hi maa ko bhul jata hai.insaan itna kyon nirmohi ho gaya hai ki duniya ki chamak dhamak mai maa ko hi bhul jata hai.shrushti ki anmol rachna hai maa.


1645 04.05.2011, at 14:40:26
Aapka Naam: arpit
Email: arpitharsh@gmail.com
Where are you from?: indore MP
Rachana Ka Shirshak:   करिश्मा ब्यूटी पार्लर
Lekhak Ka Naam: इंदिरा दाँगी
Comments: नारी के त्याग और दुख को चित्रित करती यह वुत ही सुँदर कहानी है. राजेश्वरी जैसी महिलाएं मिलना बढा ही मुश्किल है. आपा-धापी के इस युग में च्च मध्यवर्ग में ऐसी महिला संभवतया कम ही होंगी जो अपनी प्रतिद्वंवी के पास भी पहुंचने का साहस करेगी. काश ऐसे लोग से यह दुनिया भर जाए तो सच्चा समाजवाद दूर न होगा.


1644 04.05.2011, at 13:31:14
Aapka Naam: योगेश चन्द्र उप्रेती
Email: yogesjhupr@gmail.com
Where are you from?: Almora, Uttarakhand
Rachana Ka Shirshak: परोपकार
Lekhak Ka Naam: योगेश चन्द्र उप्रेती
Comments: "परोपकार का अर्थ है दुसरो की भलाई करना।"
आपकी लिखी हुई साड़ी सुक्तिया ज्ञानवर्धक तो है ही साथ ही साथ मनोबल भी बढाती है . . . आपका बहुत बहुत धन्यवाद

Back to ABHIVYAKTI
Previous    Next

<< 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 >>
Notice : Phaistos Networks has no responsibility for the content featured in this Guestbook
Free Pathfinder Guestbooks by Pathfinder - The Greek Portal

©1996-2014 Phaistos Networks S.A.